Skip to content
आप यहां है : मुखपृष्ठ arrow स्थायी प्रवृत्तियाँ arrow स्वाध्याय arrow आज का स्वाध्याय

सांप्रत कालीन स्वाध्याय शृंखला

यहाँ आप स्वाध्याय के ध्वनिमुद्रण के कुछ अंश तुरंत सुन सकते है या संपूर्ण प्रवचन का MP3 file  डाउनलोड करके बाद में फ़ुर्सत से सुन सकते है.
Guruji
विषय : 
" पञ्चदशी "
[०१ से १५ नवम्बर २०१७]

गुरूजी :
प. पू. म. मं. स्वामी श्री जगदीशपुरीजी महाराज 

विषय के संदर्भ में :
विद्यारण्य स्वामी की अन्य सभी रचनाओं की अपेक्षा 'पञ्चदशी' अधिक लोकप्रिय हुई है। इसमे अद्वैत वेदान्त का निरुपण क्रमबद्घ, स्पष्ट और सविस्तार हुआ है। यद्यपि इसमे विरोधी मतों के खण्डन का प्रयास नहीं किया गया है फिर भी प्रतिपाद्य विषय को स्पष्ट करने के लिए उनमें दोष अवश्य दिखाये गये हैं। ग्रन्थ का मुख्य उद्देश्य वेदान्त में रुचि रखने वाले व्यक्तियों को उसका सुखपूर्वक सम्यक् ज्ञान कराना ही है। लेखक ने इस विषय का प्रमाण उपनिषद् माना है, इसलिए मन्त्रों को उद्धृत करने मे कोई संकोच नहीं किया गया है। तर्क उपनिषद् प्रतिपादित सत्य का अनुगामी रहा है। तदनुरूप अनुभव प्राप्त करना उसका अन्तिम प्रमाण है। उसके साथ वेदान्त ज्ञान का फल जुड़ा हुआ है। ब्रह्म और आत्मा के एकत्व ज्ञान के अनुभव में ही कृत्कृत्यता, मुक्ति और् परमानन्द की उपलब्धि है।

ध्वनिमुद्रित अंश तथा MP3 file डाऊनलोड :-
 

दिन
( दिनांक )
झाकियां
( तुरंत सुनिये )
डाउनलोड
( फ़ुर्सत में सुनियें )

आज का
स्वाध्याय
दिन १३
(१५/११/२०१७)
भारतीय
समयानुसार दोपहर
१२.३० बजे उपलब्ध

दिन १२
(१४/११/२०१७)

दिन ११
(१३/११/२०१७)

दिन १०
(११/११/२०१७)

दिन ०९
(१०/११/२०१७)

दिन ०८
(०९/११/२०१७)

दिन ०७
(०८/११/२०१७)

दिन ०६
(०७/११/२०१७)

दिन ०५
(०६/११/२०१७)

दिन ०४
(०४/११/२०१७)

दिन ०३
(०३/११/२०१७)

दिन ०२
(०२/११/२०१७)

दिन ०१
(०१/११/२०१७)

<< गतकालीन स्वाध्याय शृंखला                                                    
 

भाषा चुनिये

  • Devnagiri/Hindi
  • English

विशेष प्रवचन - वाक्यवृत्ति

Special Program - VakyaVritti